पितर दोष उपाय | Pitra Dosh Remedies

Posted: January 22, 2012 in Astrology
Tags:

सोमवती अमावस्या पितर दोष दुर करने के लिये अति उत्तम है। सोमवती अमावस्या की पूजा से बहुत जल्दी यह दोष समाप्त हो जाता है। नोकरी, विवाह और कोई भी परेशानी जीवन मे हो खत्म हो जाती है। आज के दिन पीपल के पेड के पास जाइये, उस ही पीपल देवता को एक जनेऊ दीजिये साथ ही दुसरा जनेऊ भगवान विष्णु जी के नाम से उसी पीपल के पेड को दीजिये, पीपल के पेड और भगवान विष्णु को नमस्कार कर प्रार्थना कीजिये, अब एक सौ आठ परिक्रमा उस पीपल के पेड की कारे दुध की बनी मिठाई को हर परिक्रमा के साथ पीपल को अर्पित करते जाईए। परिक्रमा करते समय “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” मंत्र को जपते रहे। 108 परिक्रमा पूरी करने के बाद पीपल के पेड और भगवान विष्णु से फिर प्रार्थना करे कि जाने अन्जाने में हुये अपराधो के लिए उनसे क्षमा मांगिये। और अपने पितरो के कल्याण के लिए प्रार्थना करे।

यह कैसे जाने किसको पितर दोष है: अपनी जन्म कुंड्ली मे देखे कि “कया जन्म लग्न से नोवे भाव मे पाप ग्रह(राहू केतु मंगल शानि सुर्या) है, क्या नोवे भाव का स्वामी पाप ग्रह के साथ है बैठा है” फिर ऐसे ही चन्द्र लग्न से देखे “कया नोवे भाव मे पाप ग्रह है, क्या नोवे भाव का स्वामी पाप ग्रह के साथ है बैठा है” तो आपको यह दोष है। इसमे भी राहू केतु यादि है तो 100% यह दोष मोजुद है। इसलिये देर ना करे यह उपाय करने मे। नही तो जो भी नया काम करोगे तो 3-6 के अन्दर बिगड जायेगा।

Pitra dosh remedies| How to remove or heal pitra dosh | pitra dosh remedies of lal kitab | lal kitab remedies for pitra dosh

About these ads

Type Your Problem And Case Details Here

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s